डीएम ने कोविड एल-2 चिकित्सालय का लिया जायजा

0

अयोध्या। जिलाधिकारी अनुज कुमार झा ने चिकित्सालय में कोविड-19 की जांच हेतु उपलब्ध सुविधाओं, ऑक्सीजन सिलेंडर की उपलब्धता आदि की जानकारी ली तथा कंट्रोल रूम में लगे सीसीटीवी के माध्यम से विभिन्न वार्डों में भर्ती मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही चिकित्सा सुविधाओं व चिकित्सकों के भ्रमण के समय, वार्डों व शौचालयों की साफ-सफाई आदि का लिया जायजा।
निरीक्षण के दौरान पाया गया कि चिकित्सालय के फ्लू ओपीडी में कोरोना की आरटी-पीसीआर, रैपिड एंटीजन व ट्रू-नॉट तीनों प्रकार की जांच की सुविधाएं उपलब्ध हैं किंतु बहुत कम संख्या में लोग यहां पर कोरोना की जांच कराने हेतु आ रहे हैं। जिलाधिकारी ने कहा कि राजकीय चिकित्सालय दर्शन नगर के फ्लू ओपीडी में कोविड-19 के आरटी पीसीआर, रैपिड एंटीजन व ट्रू-नॉट तीनों प्रकार की जाँचों हेतु सैंपलिंग का कार्य रोजाना प्रातः 8ः00 बजे से सांय 2ः00 बजे तक किया जाता है उन्होंने कहा कि यदि किसी व्यक्ति में कोरोना के लक्षण दिखाई पड़ते हैं तो वह प्रातः 8ः00 बजे से शाम 2ः00 बजे के बीच चिकित्सालय के फ्लू ओपीडी में आकर कोरोना की जांच अवश्य कराए। इस अवसर पर प्राचार्य प्रोफेसर विजय कुमार ने अवगत कराया कि चिकित्सालय में पर्याप्त संख्या में आक्सीजन सिलेंडर उपलब्ध है। जिलाधिकारी ने मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य को ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट की स्थापना हेतु यथाशीघ्र टेंडर कराने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि ऑक्सीजन जेनरेशन प्लांट की स्थापना हो जाने से जनपद में ऑक्सीजन सिलेंडर की आवश्यकता की पूर्ति के साथ-साथ आसपास के जनपदों को भी इसका लाभ मिलेगा। तदोपरांत जिलाधिकारी द्वारा कंट्रोल रूम में लगाए गए सीसीटीवी के माध्यम से विभिन्न वार्डों में भर्ती मरीजों को उपलब्ध कराई जा रही चिकित्सा सुविधाओं, चिकित्सकों के भ्रमण के समय, वार्डों व शौचालयों की साफ-सफाई आदि का जायजा लिया तथा कोरोना वार्डों के अंदर तीमारदारों के रहने पर रोक लगाने के निर्देश दिए आवश्यकता पड़ने पर फोन के माध्यम से संपर्क कर उसे संक्रमण से बचाव के सभी उपायों का अनुपालन कराते हुए ही वार्ड में प्रवेश दिया जाए। इस अवसर पर जिलाधिकारी ने चिकित्सालय में भर्ती मरीजों की फोन के माध्यम से वार्ता कर उनके स्वास्थ्य व उन्हें उपलब्ध कराई जा रही चिकित्सा सुविधाओं की जानकारी ली। जिलाधिकारी ने मरीजों से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाले औषधियों यथा च्यवनप्राश व गिलोय बटी आदि का भी सेवन करते रहने की लिए कहा। इस अवसर पर मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य प्रोफेसर विजय कुमार मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ अरविंद कुमार सिंह व अन्य संबंधित चिकित्सक उपस्थित रहे।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: