ग्राम समाज की जमीन पर कब्जेदारी को लेकर दो पक्ष भिड़े

मासूम बच्चा सहित चार लोग घायल

बीकापुर। ग्राम समाज की आरक्षित सरकारी जमीन पर अवैध कब्जेदारी को लेकर दो पक्षो के बीच हुए विवाद में एक मासूम बच्चा सहित 4 लोग घायल हुए है। जिनमें तीन लोगो को गहन इलाज के लिए जिला रिफर किया गया है। घटना के बारे में दोनो पक्षो की गुणा गणित के आधार पर एक दूसरे के विरूद्व दी गई तहरीरो के मुताबिक कोतवाली में एक दूसरे के खिलाफ केस दर्ज कर विवेचना शुरू कर दी गई है। मारपीट की यह घटना कोतवाली क्षेत्र के उमरनी पिपरी गांव की है। गायत्री पत्नी मंजीत कोरी ने तहरीर में आरोप लगाया है कि मंगलवार की शाम जब वह दरवाजे के सामने कुडा करकट साफ कर रही थी अचानक गांव के पडोसी रामकेवल व उनके परिवारीजन भद्दी-भद्दी जातिसूचक शब्दो का प्रयोग कर गालियां देते हुए उसके दरवाजे पर चढ आये और उसे मारापीटा तथा जान से मार डालने की धमकियां दी। मारपीट की इस घटना में उसे व उसके पति को चोटे आयीं है। गायत्री कोरी की तहरीर पर आरोपी रामकेवल पुत्र छोटेलाल तथा सुरजीत गुड्डू सर्वेश सतीश सुरेश हरिश्चन्द्र रामकेवल का लडका हरिश्चन्द्र की पत्नी व एक अज्ञात सहित 10 लोगो के खिलाफ अ0सं0 372/19 धारा 147 323 452 506 आईपीसी तथा 3(1)द एससी एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया है। इसी मामले में दूसरे पक्ष की श्रीमती उर्मिला देवी पत्नी हरिश्चन्द्र प्रजापति की तहरीर पर आरोपी मंजीत कोरी उसकी पत्नी गायत्री व दो अज्ञात सहित 4 लोगो के खिलाफ घर में घुसकर मारपीट गाली गलौज जान से मार देने की धमकी व अश्लील हरकत की धाराओ में अ0सं0 373/19 धारा 323 504 506 452 354ख आईपीसी के तहत मामला दर्ज कराया है। उर्मिला का आरोप कि मंगलवार की शाम 5 बजे वह घर पर अपने तीन माह की बच्ची के साथ दरवाजे पर बैठी थी पति बाहर काम पर गया था। विपक्षी अचानक वहां आये और गालियां देेते हुए मारने के लिए दौडे। डरवश वह घर में भाग कर चली गई। विपक्षीगण घर में भी घुस आये वहां उसे मारापीटा उसके साथ अश्लील हरकत की और जान से मारने की धमकियां देकर उसकी मासूम बच्ची को गोद से छीनकर जमीन पर फेंक दिया। जिससे वह भी चोटहिल हो गयी। पुलिस दोनो पक्षो की तहरीरो के आधार पर मामला पंजीकृत कर जाॅच पडताल शुरू कर दी है।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More