केंद्र सरकार कानून बनाकर करवाए राम मंदिर का निर्माण : उद्धव ठाकरे

शिवसेना प्रमुख ने बेटे व 20 सांसदों के साथ किया रामलला का दर्शन

अयोघ्या। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने अपने बेटे आदित्य ठाकरे व 20 सांसदों के साथ रविवार को रामलला का दर्शन किया। रामलला के दर्शन के बाद उद्वव ठाकरे ने कहा, हमारी मांग है कि कानून बनाकर अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण केंद्र सरकार करवाए। उन्होंने विश्घ्वास जताया कि जल्द से जल्द राम मंदिर बनेगा। शिवसेना अध्यक्ष ने कहा कि उन्हें पूरा भरोसा है कि मोदी सरकार अबकी बार राम मंदिर का निर्माण कराएगी।
पत्रकारों के साथ बातचीत में उद्धव ने कहा, अभी मामला अदालत में है। केंद्र में मजबूत सरकार भी है और हम उनके साथ हैं। मोदी जी के पास फैसला लेने का साहस है। यदि सरकार राम मंदिर बनाने का फैसला लेती है तो फिर कोई इसे नहीं रोक सकता। बताया जा रहा है कि उद्धव ठाकरे ने रामलला के सामने अपने नवनिर्वाचित सांसदों के साथ हाथ जोड़कर कहा, श्भगवान हमें कुछ ऐसी शक्ति दें जिससे जल्द आप का भव्य मंदिर बनकर तैयार हो सके और हम उस भव्य मंदिर में आपके दर्शन करें।

अयोध्या में बनकर रहेगा राम मंदिर, हमारे लिए यह चुनावी मुद्दा नहीं

शिवसेना प्रमुख ने कहा कि राम मंदिर बनकर रहेगा हमारे लिए राम मंदिर चुनावी मुद्दा नहीं है। मैं अयोध्या आता रहूंगा और मंदिर भी जल्द बनेगा। अयोध्या ऐसी जगह है जहां बार-बार आने का दिल करता है और पता नहीं आगे कितनी बार आऊंगा। उन्होने कहा कि पिछले अयोध्या दर्शन में मैंने कहा था कि लोकसभा चुनाव के बाद अपने सांसदों के साथ रामलला के दर्शन करने आऊंगा और उसी क्रम में मैं यहां आया हूं। अब रामलला के दर्शन करने के बाद शिवसेना सांसद संसद में सोमवार से नई पारी शुरू करेंगे।
एक सवाल के जवाब में उद्धव ठाकरे ने कहा कि बालासाहब यही चाहते थे की सब हिंदू एक हो जाएं और हिंदुओं की एकता कायम रहें, इसलिए हमने महाराष्ट्र के बाहर चुनाव नहीं लड़ा। इससे पहले शिवसेना के 20 सांसदों के साथ उद्धव ठाकरे ने रामलला के किए दर्शन किए। लोकसभा चुनाव में शिवसेना के 18 एमपी चुनकर आए हैं। इसके अलावा, राज्यसभा में पार्टी के दो सांसद हैं। उद्धव की अयोध्या यात्रा को इस साल होने वाले महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है।
शिवसेना प्रमुख के स्वागत के लिए शहर में जगह-जगह बैनर और भगवा झंडे लगाए गए। बता दें कि पार्टी के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने शनिवार को कहा था कि शिवसेना मानती है कि अयोध्या विवाद को सुलझाने के पीएम मोदी और गृह मंत्री अमित शाह सुप्रीम कोर्ट से अनुरोध करेंगे। शिवसेना के सभी सांसदों को ठाकरे ने शनिवार की शाम तक अयोध्या पहुंचने के लिए कहा था।
संजय राउत ने कहा, हमने राम के नाम पर वोट नहीं मांगा और न ही भविष्य में मांगेंगे। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के बारे में राउत ने कहा कि पीएम मोदी और योगी के नेतृत्व में इसका निर्माण होगा। 2019 का बहुमत राम मंदिर निर्माण के लिए है। राज्यसभा में भी 2020 तक हमारा बहुमत हो जाएगा। उन्होंने कहा, हरेक मुद्दे को सुप्रीम कोर्ट के हस्तक्षेप से नहीं सुलझाया जा सकता है। इस साल होने महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव को देखते हुए शिवसेना ने राम मंदिर पर अपना फोकस बढ़ा दिया है। राउत ने कहा, बीजेपी को रोडमैप बनाना है। शिवसेना केवल एक गठबंधन सहयोगी है। महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना का गठबंधन बना रहेगा।

इसे भी पढ़े  कुल्हाड़ी से हमलाकर चचेरे भाई ने किया मरणासन्न, लखनऊ रेफर

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More