एनडीए की जीत, राम मन्दिर का जनादेश : संजय राउत

कहा- अयोध्या में राम मन्दिर को लेकर सरकार पर्दे के पीछे पका रही खिचड़ी

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे 16 को आयेंगे अयोध्या

अयोध्या। लोकसभा चुनाव में एनडीए की जीत राम मन्दिर का जनादेश है। भाजपा सरकार अयोध्या में राम मन्दिर निर्माण को लेकर पर्दे के पीछे खिचड़ी पका रही है। पीएम मोदी व सीएम योगी के साथ मिलकर शिवसेना अयोध्या में राम मन्दिर का निर्माण करायेगी। यह जानकारी शिवसेना के राज्यसभा सांसद संजय राउत ने पत्रकार वार्ता के दौरान दिया। उन्होंने बताया कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे 16 जून को महाराष्ट्र के 18 शिवसेना सांसदों के साथ अयोध्या आयेंगे और राम लला का दर्शन करेंगे। उन्होंने बताया कि शिवसेना प्रमुख व सांसदों के कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए कार्यकर्ताओं की बैठक कर रणनीति तय की गयी। पिछली बार जब शिवसेना प्रमुख अयोध्या आये थे तो उन्होंने वादा किया था कि वह फिर आयेंगे इसी वादे के तहत सरकार बनने के बाद वह आ रहे हैं। उन्होंने कहा कि शिवसेना प्रमुख की आस्थ व श्रद्धा है और अयोध्या से उनका भावनात्मक रिश्ता है। शिवसेना प्रमुख का अयोध्या आगमन कोई राजनीतिक प्रदर्शन नहीं है। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से कल मिलकर मैने आर्शिवाद लिया है वह भी चाहते हैं कि उद्धव ठाकरे बार-बार अयोध्या आते रहें यदि हम साथ-साथ रहे तो राम मन्दिर का कार्य भी जल्दी होगा।
उन्होंने कहा कि देश में मोदी के नेतृत्व में जहां विजय प्राप्त हुई है वहीं महाराष्ट्र में उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में शिवसेना की जीत हुई है। यह राम की कृपा है, राम मन्दिर नहीं बनेगा यह सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने कहा कि अब फैंसले की घड़ी है 2019 का चुनाव राम मन्दिर के नाम पर आखिरी चुनाव है। हमारा कोई दबाव राम मन्दिर को लेकर नहीं है हम सरकार के साथ हैं। उन्होंने कहा कि संतो की बैठकें लगातार हो रही हैं सरकार पर दबाव बनाया जा रहा है। अमित शाह गृह मंत्री हुए हैं मुझे लगता है कि कश्मीर से 370 धारा खत्म करने की दशा में वह ठोस कदम उठा रहे हैं एक मजबूत गृहमंत्री मिला है उन्होंने अमित शाह की तुलना सरदार बल्लभभाई पटेल से किया। कश्मीर से हिन्दुओं के पलायन के सवाल पर उन्होंने कहा कि यह पलायन नाटक है। पश्चिम बंगाल से हिन्दू पलायन कर रहा है पर कोई आवाज नहीं उठा रहा है। अयोध्या के राम मन्दिर की बात आती है तो पलायन का मुद्दा उठा दिया जाता है।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  सामाजिक समसरता के रूप में प्रभु श्रीराम अनुकरणीय : डॉ. रमेश पोखरियाल