कृृषि विवि विद्धत परिषद की हुई बैठक

    Advertisement

     

    मिल्कीपुर-फैजाबाद। नरेंद्र देव कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय कुमारगंज फैजाबाद में गुरुवार को विश्वविद्यालय विद्धत परिषद की 254वी बैठक सम्पन्न हुई। विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो जे एस संधू के  अबतक के कार्यकाल की पहली बैठक में कुल 11 एजेंडा विन्दुओं को विचारार्थ रखा गया। कुलपति प्रो संधू के सकारात्मक कार्यशैली की झलक भी पहली बैठक में विचारणीय बिंदुओं के दृष्टिगत देखने को मिली। विश्वविद्यालय में लंबे अर्से से शिक्षकों के लंबित ए जी पी प्रकरण के निस्तारण के लिए उठाए जा रहे ठोस कदम के रूप में ए जी पी निर्धारण हेतु निर्धारित किये गए प्रोफार्मा के प्रारूप पर सहमति हेतु प्रस्तुत प्रस्ताव एकमत से पारित हो गया। कृषि महाविद्यालय आजमगढ़ परिसर के लिए पूर्व में स्वीकृत तथा विज्ञापित पदों को भरे जाने के लिए शैक्षिक अहर्ता  का विधिवत निर्धारण करने पर विचार किया गया जिससे भविष्य में कोई विधिक कठिनाई सामने न आये।

    विश्वविद्यालय में अधिष्ठाता पशु चिकित्सा एवं पशु पालन, अधिष्ठाता उद्यान एवं वानिकी के पदों के शासन से स्वीकृत कराने पर भी विचार हुआ।  बैठक में कुछ विभागों में पूर्व में स्वीकृत पदों को समर्पित कर उनके स्थान पर आवश्यक पदों का सृजन व उन पर नियुक्ति किये जाने पर भी विचार हुआ जिसमें सहायक सम्पत्ती अधिकारी तथा अधिष्ठाता छात्र कल्याण के पद पर नियुक्ति का प्रस्ताव विचाररार्थ प्रस्तुत हुआ।

    विश्वविद्यालय में शैक्षिक पदों की कमी को देखते हुए कृषि महाविद्यालय आजमगढ़ में शिक्षकों के चयन के लिए निर्धारित अहर्ता को ही लागू किये जाने पर भी विचार विमर्श हुआ।निदेशक शोध तथा निदेशक प्रसार की नियमित नियुक्ति के लिए प्रक्रिया प्रारम्भ करने तथा लायब्रेरियन के पद पर नियुक्ति हेतु शैक्षिक अहर्ता पर विचार एवं निर्णय भी बैठक में लिया गया। वेटनरी कालेज की मान्यता में बाधा बने तथा इसे दूर करने के लिए स्वीकृत व विज्ञापित 34 शिक्षकों के पद के लिए निर्धारित शैक्षिक योग्यता को विवादरहित करने के लिए अन्य विश्वविद्यालयो में लागू व्यवस्था का अनुसरण कर प्रक्रिया को अंजाम तक पहुंचाने का भी निर्णय लिया गया।

    इसे भी पढ़े  दुर्घटना में एमएलसी देवेंद्र प्रताप सिंह घायल, ट्रामा सेंटर रेफर

    बैठक में सदन की सहमति से यह निर्णय भी लिया गया कि विश्वविद्यालय स्थापना में भूमि अध्यापित किसानों को सेवा में लिए जाने के प्रकरण में अनावश्यक वादों से बचने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार में लागू शासनादेश के अनुरूप कार्यवाही सुनिश्चित कर दी जाय। बैठक की अध्यक्षता कर रहे कुलपति प्रो जे एस संधू ने विद्वत परिषद सदस्यों को संदेश देते हुए कहा कि विश्वविद्यालय के उत्थान के लिए सभी लोग एकजुट होकर तथा निस्वार्थ रूप से अपना योगदान दें तभी विश्वविद्यालय अपनी खोई ख्याति हासिल कर सकेगा। बैठक में कुलसचिव डॉ पी के सिंह ने कुलपति का औपचारिक स्वागत किया तथा विद्वत परिषद के सदस्यों का आभार व्यक्त किया। ज्ञात हो इसके बाद आगामी 4 मई 2018 को विश्वविद्यालय प्रबन्ध परिषद की बैठक आयोजित की जानी है। कुलपति प्रो संधू ने बैठक के बाद ही प्रशासनिक भवन स्थित वित्त नियंत्रक कार्यालय तथा अधिष्ठाता छात्र कल्याण कार्यालय का औचक निरीक्षण भी किया। इस दौरान कुलपति ने विश्वविद्यालय के वित्त नियंत्रक कार्यालय से विश्वविद्यासली में कार्यरस्त सभी नियमित कर्मियों की उनके जी पी एफ सम्बन्धी सूचना सहित विस्तृत जानकारी भी मांगी है।