डाक्टर ने फार्मासिस्ट को किया अपमानित

    Advertisement

    आन्दोलित संवर्ग ने सीएमएस का किया घेराव

    फैजाबाद। जिला चिकित्सालय में तैनात चीफ फार्मासिस्ट को डाक्टर द्वारा अपमानित किये जाने के बाद पूरे संवर्ग में अपरान्ह 12 बजे काम बन्द कर आन्दोलन शुरू कर दिया। डाक्टर व फार्मासिस्ट में तीखी नोकझोंक हुई। आन्दोलित फार्मासिस्टों ने अन्य कर्मचारी संगठन नेताओं के साथ प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक का घेराव किया सीएमएस द्वारा तीन दिन का समय मांगे जाने के बाद आन्दोलन खत्म हुआ।
    जिला चिकित्सालय की ओटी में आप्रेशन के दौरान गये बेहोशी के चिकित्सक डा. सुरेश पटारिया व चीफ फार्मासिस्ट गोरखनाथ में तू-तू, मै-मै हुई। गुस्साये बेहोशी के डाक्टर ने फार्मासिस्ट को धक्का देकर ओटी से बाहर कर दिया। अपमानित फार्मासिस्ट गोरखनाथ वर्मा ने प्रकरण की जानकारी फार्मासिस्ट संघ को दिया। उन्होंने संघ को अवगत कराया कि बस्ती निवासी उनके रिश्तेदार बहरईची का हार्निया आॅपरेशन होना था जो तीन दिन से जिला चिकित्सालय में भर्ती है। बेहाशी के डाक्टर सुरेश पटारिया लगातार तीन दिन से टरका रहे थे बिना बेहोशी के डाक्टर के सर्जन द्वारा आपरेशन सम्भव नहीं हैै। इसी बात को लेकर चीफ फार्मासिस्ट गोरखनाथ वर्मा ओटी में गये और डा. सुरेश पटारिया से आपरेशन के सम्बन्ध में बात करने लगे। डा. पटारिया गुस्से से आग बबूला हो गये और उन्होंने फार्मासिस्ट गोरखनाथ को धक्का देकर ओटी से बाहर निकाल दिया। फार्मासिस्ट के अपमानित किये जाने की सूचना पर जिला, महिला व श्रीराम चिकित्सालय के सभी फार्मासिस्ट एकत्र हो गये। डा. पटारिया जैसे ही ओटी से बाहर निकलकर कैम्पस में आये उनमें और फार्मासिस्ट संवर्ग के लोगों में तू-तू, मै-मै शुरू हो गयी। आन्दोलित फार्मासिस्ट प्रमुख चिकित्सा अधीक्षक डा. हरिओम श्रीवास्तव के कक्ष में गये और मामले की जानकारी देते हुए दोषी डाक्टर के विरूद्ध कार्यवाही करने की मांग किया। सीएमएस ने तीन दिन का मौका मांगा और कहा कि वह डाक्टर के विरूद्ध आवश्यक कार्यवाही करेंगे। आश्वासन के बाद फार्मासिस्ट संवर्ग ने आन्दोलन स्थगित कर दिया। सीएमएस से वार्ता करने वालों में फार्मासिस्ट संघ के अध्यक्ष प्रवीण दूबे, मंत्री नवी मोहम्मद, अशर्फी लाल चैधरी, हनुमन्त प्रसाद दूबे, आरपी सोनी, के.एस. चैधरी, जेपी जायसवाल, अशोक पाठक, रामबली गुप्ता चन्द्रभाल यादव आदि शामिल रहे।