धुनिया टोला का भू-जल हुआ जहरीला, 50 से अधिक महामारी के शिकार

0

महिला की मौत, सप्ताह बाद स्वास्थ्य विभाग चेता, जाचं करने के लिए भेजी टीम

फैजाबाद। इनायतनगर थाना क्षेत्र के ग्राम पलियामाफी धुनिया टोला का भू-जल जहरीला हो जाने के कारण 50 से अधिक लोग महामारी के शिकार हो गये हैं। प्रदूषित जल पीने के कारण पहली शिकार मो. हलीम की 35 वर्षीया पत्नी मेहरूल निशा और उसके चार बच्चे हुए। उल्टी दस्त और रूक-रूककर अचेत हो जाने के लक्षण के बाद ग्रामीणों ने उसे लाकर 3 सितम्बर को जिला चिकित्सालय में भर्ती कराया उसी रात उसकी मौत हो गयी। ग्रामीण मृतका का शव लेकर चले गये।
जन्माष्टमी के दिन से पूरे टोला के लोग जिसमें स्त्री पुरूष और बच्चे शामिल है उल्टी दस्त और अचेत होने लगे। गांव में अफरातफरी मच गयी। ग्राम प्रधान संतोष कुमार यादव ने कुछ को जिला चिकित्सालय पहुंचाया। यह सिलसिला शुक्रवार 7 सितम्बर तक लगातार जारी है। कुछ बीमार लोगों को रायबरेली रोड़ पर स्थित नारायण हास्पिटल में भर्ती कराकर किया जा रहा है जिसकी पुष्टि पलिया माफी के पूर्व प्रधान रामराज यादव ने की है। उन्होंने बताया कि प्रदूषित पानी पीने से लगभग 8-10 परिवार प्रभावित हैं। शुक्रवार को सुबह इसकी जानकारी प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र मिल्कीपुर के प्रभारी डा. आलोक कुमार को जब दी गयी तो वह स्वयं अपनी टीम के साथ गांव पहुंचे और लोगों में दवा का वितरण शुरू किया। मिल्कीपुर विधायक बाबा गोरखनाथ ने रोग फैलने की जानकारी शुक्रवार को दोपहर मुख्य चिकित्सा अधिकारी अशोक कुमार गुप्ता को देते हुए कड़ी फटकार लगाया तो उनके होश फाख्ता हो गये। आनन-फानन में डा. अशोक कुुुमार गुप्ता ने इसकी जानकारी संक्रामक रोग नियंत्रण विभाग को दिया। सूचना मिलते ही संक्रामक रोग विभाग से जुड़े डाक्टर व अन्य पलिया माफी धुनिया टोला पहुंच गये और प्रदूषित जल का नमूना लिया तथा बीमार लोगों को आवश्यक दवाएं दी। बताते चलें कि मृतका मेहरूल निशा के तीन पुत्र सलमान, सुल्तान, मौफील व रहीम भी उल्टी दस्त से पीड़ित हुए जिनका इलाज जिला चिकित्सालय में कराया गया है। गांव के लगभग 46 लोग पीड़ित हैं इसकी पुष्टि मिल्कीपुर सीएचसी प्रभारी डा. आलोक कुमार व ग्राम प्रधान संतोष कुमार यादव ने की है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने बीमार ग्रसित लोगों की सूची भी बनाया है जिसमें रहमुल निशा, मो. अलहाब, रूबीना, सानिया, नौफीन, सलमान, हिना, ताज मोहम्मद, आजाद, शबनम, ईशा बानो, निदा, गुलशन जहां शाहिरा बानो, तबस्सुम, आफताब आलम, मो. वसीम, किताबुल, बदरूल निशा, सना शेख, मो. समीर, मो. साहिल खान, किस्मतुल निशा, शकरीना बानो, नफीसा बानो, राबिया बानो, मो. मेराज, महफूज, सिराज, वाजित, मकसूद अली, यासीम, रूजवान, सूफियान, सन्नो, ताहिरा बानो, रोशन जहां, हदीसुन निशा,शार बानो, शमा बानो, नसरीम, बिडहन निशा, अनीशुल निशा, जमील अहमद, गुलफ्सा बानो, सूफिया बानो शामिल हैं। इस सम्बन्ध में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. अशोक कुमार गुप्ता का कहना है कि पानी का नमूना हैण्डपम्प व अन्य पेजयल श्रोतों का लिया जा चुका है जिसे प्रयोगशाला भेजा जा रहा है जांच रिर्पोट आने के बाद पता चलेगा कि जल में कौन से विषाक्त तत्व हैं जिससे लोग उल्टी दस्त से पीड़ित हुए।

इसे भी पढ़े  गणेश वंदना से हुआ अयोध्या की रामलीला का भव्य आगाज

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More

%d bloggers like this: