धूमधाम से मनायी गयी वीर सावरकर की 135वीं जयन्ती

सावरकर को राष्ट्रपिता घोषित करने की हुई मांग

फैजाबाद। हिन्दू महासभा के तत्वाधान में वीर विनायक दामोदर सावरकर की 135वीं जयन्ती धूमधाम से मनायी गयी। पुष्पराज चैराहे पर स्थित सावरकर प्रतिमा की साफ-सफाई के उपरान्त उस पर माल्र्यापण करते हुये हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय प्रवक्ता, अधिवक्ता मनीष पाण्डेय ने कहा कि हिन्दू राष्ट्र के प्रबल समर्थक अंग्रेजों की गुलामी से भारत को मुक्त कराने के लिए सावरकर के कष्ट, विपरीत परिस्थितियों में भी हिम्मत न हारने की प्रवृत्ति तथा चैमुखी विकास के प्रति उनका अद्भुत सोच व समर्पण आज नौजवानों के लिए प्रेरणा के स्रोत बन सकते हैं। श्री पाण्डेय ने आगे कहा कि दुर्भाग्यवश आजादी के बाद किसी भी सरकार ने सावरकर के कृत्यों, विचारों को उचित सम्मान नहीं दिया। वास्तविक रूप से राष्ट्रपिता कहलाने के योग्य सावरकर को भारत रत्न व भारतीय मुद्रा पर उनके चित्र अभी तक अंकित न किया जाना बेहद दुर्भाग्यपूर्ण व शर्मानाक है। वैद्य डाॅ0 आर0पी0 पाण्डेय ने कहा कि सावरकर ऐसे प्रकाश पुन्ज है जो भटके हुये को राह दिखलाते हैं। बब्लू मिश्र ने कहा कि सावरकर की लेखनी लोगों को अज्ञान से ज्ञान की ओर ले जाने में सक्षम है। महासचिव अजय सिन्हा ने कहा कि प्रचण्ड वीर महान लेखक सावरकर के विचारों को जन जन तक पहुंचाने की आवश्यकता है। कार्यक्रम में प्रमुख रूप से पंण्डित रविन्द्र तिवारी, हीरामणि पाण्डेय, ओम प्रकाश भोजवाल, परी सिन्हा, विनोद पाण्डेय, चन्द्रहास दीक्षित आदि प्रमुख रूप से उपस्थित रहे।

इसे भी पढ़े  11 स्वास्थ्य केंद्रों पर 2200 फ्रन्ट लाइन वर्कर को लगा कोविड-19 टीका

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.

This website uses cookies to improve your experience. We'll assume you're ok with this, but you can opt-out if you wish. Accept Read More