योगीराज में छीनी जा रही अभिव्यक्ति की आजादी: तेजनारायण

जाति विशेष के लोगों की हो रही हत्याएं, अपराधों पर अंकुश लगाने में सरकार विफल

अयोध्या। उत्तर प्रदेश में योगीराज में हालात यह हैं कि अभिव्यक्ति की आजादी छीनी ही नहीं जा रही बल्कि पत्रकारों के साथ पुलिस बर्बरता के पेश आ रही है। दूसरी ओर पूरे सूबे मे जाति विशेष के लोगों की हत्याएं हो रही हैं और उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार बढ़ते अपराधों पर अंकुश नहीं लगा पा रही है यह विचार शाने अवध सभागार में आयोजित पत्रकार वार्ता में सपा के पूर्व राज्यमंत्री तेजनारायण पाण्डेय ने व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि पूरे प्रदेश में लूट, डकैती, हत्याएं और बच्चियों व महिलाओं के साथ बलात्कार हो रहा है और प्रदेश की भाजपा सरकार उसपर अंकुश नहीं लगा पा रही है। उत्तर प्रदेश विषम परिस्थितियों से गुजर रहा है। हम राज्यपाल से मांग करते हैं कि यदि नैतिकता के आधार पर सीएम योगी त्यागपत्र नहीं देते तो इस सरकार को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया जाय। उन्होंने कहा कि जिस तरह जाति विशेष के लोगों को मौत के घाट उतारा जा रहा है उससे यह लगता है कि इसके पीछे सोची समझी साजिश है। प्रदेश में बलात्कार की घटनाएं बढ़ी हैं, कानून व्यवस्था बनाये रखने में भाजपा सरकार पूरी तरह विफल है। अंग्रेजों के शासनकाल की तरह पत्रकारों पर प्रदेश की सरकार जुल्म कर रही है पत्रकारों को जेल में डाल दिया जा रहा है जब सुप्रीम कोर्ट उसे छोड़ने का आदेश देती है तभी रिहाई हो पा रही है। उन्होंने शामिली की घटना का जिक्र करते हुए कहा कि जीआरपी के एसएचओ ने पत्रकार को मारा ही नहीं बल्कि जिस ढंग से अपमानित किया वह ऐसे जुल्म का प्रतीक है जिसका लोकतंत्र में काई जगह नहीं है। उन्होंने कहा कि सरेआम वकील की हत्या कर दी जा रही है और सरकार ऐसी व्यवस्था नहीं कर पा रही है जिससे अपराधों पर अंकुश लग सके। उन्होंने कहा कि समाजवादी पार्टी लोकतंत्र के प्रहरियों साथ है शीघ ही एक प्रतिनिधि मण्डल जिलाधिकारी से मिलेगा और उन्हें राष्ट्रपति को सम्बोधित ज्ञापन सौंपेगा। यदि बढ़ते अपराधों पर अंकुश न लगा तो समाजवादी पार्टी के लोग जुल्म, अत्याचार के खिलाफ सड़क पर उतरकर आन्दोलन करेंगे। पत्रकार वार्ता के दौरान जिलाध्यक्ष गंगा सिंह यादव, राम अचल यादव, ओरौनी पासवान, कमर राईन व बलराम यादव भी मौजूद थे।

Facebook Comments
इसे भी पढ़े  समस्याओं के समाधान के लिए करें पौधरोपण: नीरज निगम